रखना है लिवर का ख्याल तो करें इसका सेवन

0
4

रखना है लिवर का ख्याल तो करें इसका सेवन

लिवर की सेहत सुधारने का एक नया तरीका मिल गया है| एक शोध में वैज्ञानिकों ने पाया है कि नॉन-अल्कोहलिक फैटी लिवर डिसीस (एनएएफएलडी) में मधुमेह की चिकित्सा में उपयोग होने वाली विशिष्ट दवा का सेवन खासा कारगर होगा| जिसके सेवन से लिवर का चयापचय बेहतर हो सकता है| टाइप 2 मधुमेह में उपयोग होने वाली चिकित्सा लिवर में शर्करा नियंत्रण और वसीय कोशिकाओं (एडिपोस) से संबंधित है|

लिवर की सेहत

यह एक ऐसी स्थिति है, जिसमें लीवर में वसा का निर्माण होने लगता है| साथ ही कुछ स्थितियों में वसा का यह जमाव लिवर में सूजन का कारण भी बनता है| इस वजह से सिरहोसिस रोग होने की आशंका होती है|

शोध के निष्कर्षो से पता चला है कि एक्सेनेटाइड चिकित्सा शर्करा के अवशोषण को बढ़ाती है, और लिवर तथा एडिपोस ऊतकों में इंसुलिन प्रतिरोध को कम करती है|

एक्सेनेटाइड एक प्रकार की चिकित्सा है, जो अग्न्याशय (पैनक्रियास) को लक्षित कर शर्करा के अवशोषण को बेहतर करती है|

यूरोपियन एसोसिएशन फॉर द स्टडी ऑफ द लिवर से संबद्ध टॉम हेमिंग कार्लसन ने बताया की यह दिलचस्प अध्ययन दुनिया भर के एनएलएफएलडी पीड़तों के लिए अधिक निष्कर्षो की खोज करने की प्रेरणा देता है|

SHARE

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here