अगर आप भी करते हैं ऐसा तो सावधान वरना हो जाएंगे अंधे

0
3

अगर आप भी करते हैं ऐसा तो सावधान वरना हो जाएंगे अंधे

(दिलेर समाचार) हाइपरटेंशन होने के दो कारण होते हैं। एक शारीरिक गतिविधि और दूसरी मानसिक गतिविधि। लेकिन क्या आप जानते हैं कि हाइपरटेंशन जब होता है, तो वह सबसे पहले आपके हार्ट पर असर डालता है। साथ ही यह आखों, दिमाग और किडनी को भी नुकसान पहुंचाता है। ग्लोबल हॉस्पिटल के डॉ. अनिल शर्मा, चीफ कार्डियोलॉजिस्ट का कहना है कि “हाइपरटेंशन के दौरान हमारे शरीर की आर्टरीज को सही तरह से खून का सप्लाई नहीं हो पाता है, जिसकी वजह से स्ट्रोक होने का खतरा हो सकता है। अगर दिमाग की बात करें, तो हाइपरटेंशन की समस्या से हमें लक्वा मार सकता है। ऐसा तब होता है, जब आपकी आर्टरीज गल जाती हैं और ब्लड क्लॉट की वजह से खून का सप्लाई नहीं हो पाता है। इसे एम्बॉलिक स्ट्रोक के नाम से भी जाना जाता है। दूसरा अगर आपका ब्लड प्रेशर 200-250 के ऊपर जाता है, तो आपको ब्रेन हैमरेज होने का खतरा भी पढ़ जाता है”।

डॉक्टर अनिल आगे कहते हैं कि “हाइपरटेंशन में आंखों का रेटिना गलने लगता है, जिसकी वजह से लोगों को दिखाई देना बंद हो जाता है। इस समस्या को कहते हैं रेटिनोपैथी। वहीं, हाइपरटेंशन से किडनी में नेफ्रोपैथी की समस्या होने लगती है। हार्ट की अगर बात करें, तो हाइपरटेंशन में सबसे बुरा प्रभाव दिल पर पड़ता है। इस दौरान आपका हार्ट रिलेक्स नहीं हो पाता है और कोरोनरी आर्टरीज में कोलेस्ट्रोल जमने के कारण हार्ट अटैक आने की संभावना बढ़ जाती है”।

डॉ. अनिल कहते हैं कि “हाइपरटेंशन एक ऐसी समस्या हो, जो खासकर हमारी बॉडी के चार मुख्य हिसों पर हमला करती है। डब्ल्यूएसओ के अनुसार हर तीसरे युवा को यह समस्या है। 90 प्रतिशत यह एक साइलेंट किलर बीमारी के नाम से जानी जाती है। केवल 10 प्रतिशत ऐसा होता है, जब व्यक्ति को इसका पता चल पता है। अगर किसी को सिर दर्द भी होता है, तो उससे विशेषज्ञ की सलाह जरूर लेनी चाहिए”।

SHARE

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here